जननी सुरक्षा योजना 2024 Janani Suraksha Yojana (JSY) Online Registration

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत वर्ष 2005 में स्थापित केंद्र सरकार द्वारा प्रायोजित एक कार्यक्रम है जननी सुरक्षा योजना का उद्देश्य गर्भवती महिलाओं के बीच संस्थागत जन्म को बढ़ावा देकर मातृ और नवजात मृत्यु को कम करना है। जेएसवाई ने राष्ट्रीय मातृत्व लाभ योजना को संशोधित किया और कम प्रदर्शन करने वाले राज्यों पर जोर देते हुए देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में लागू किया गया है।

इस योजना के अंतर्गत गरीबी रेखा के नीचे आने वाली महिलाओं को केंद्र सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी सरकार गर्भवती महिलाओं को मदद के तौर पर यह राशि प्रदान करती है सरकार द्वारा यह योजना गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं की हालत में सुधार लाने के लिए चलाई गई है। यह योजना कम प्रदर्शन करने वाले राज्यों पर विशेष ध्यान देने के साथ सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में चलाई जा रही है। आज के लेख के माध्यम से आपको Janani Suraksha Yojana से संबंधित सभी जानकारियां प्रदान की गई है इस लेख में आपको जानने को मिलेगा की जननी सुरक्षा योजना क्या है इसको उद्देश्य, विशेषताएं, पात्रता, आवश्यक दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि इन सभी जानकारियों को जानने के लिए हमारे लेख को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें।

जननी सुरक्षा योजना

Janani Suraksha Yojana 

  • राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन एक सुरक्षित मातृत्व अभियान Janani Suraksha Yojana (जेएसवाई) लागू कर रहा है। जिसका लक्ष्य गर्भवती वंचित महिलाओं के बीच संस्थागत प्रसव को प्रोत्साहित करके मृत और नवजात दोनों मृत्यु दर को कम करना है।
  • राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम के एक भाग के रूप में राष्ट्रीय मातृत्व लाभ योजना अगस्त 1995 में शुरू की गई।
  • माननीय प्रधानमंत्री द्वारा 12 अप्रैल 2005 को राष्ट्रीय मातृत्व लाभ में संशोधन करके शुरू की गई। योजना को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में लागू किया गया था जिसमें खराब प्रदर्शन करने वाले राज्यों पर जोर दिया गया था।
  • जेएसवाई कार्यक्रम जो पूरी तरह से केंद्र सरकार द्वारा वित्त पोषित है प्रसव पूर्व और प्रसवोत्तर देखभाल के साथ नकद सहायता को जोड़ती है।

जननी सुरक्षा योजना के उद्देश्य

जैसा कि आप सभी लोग जानते होंगे कि गरीबी रेखा में जीवन यापन करने वाली महिलाएं अपने गर्भावस्था के समय में अपनी आवश्यकताओं को पूरा नहीं कर पाते और ना ही अपनी आर्थिक आवश्यकताओं को पूरा करो पाती है ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा सुविधाओं की उपलब्धता अभी भी बहुत मुश्किल है इन सभी समस्याओं को देखते हुए केंद्र सरकार द्वारा जननी सुरक्षा योजना को आरंभ किया गया। इस जेएसवाई योजना के माध्यम से गर्भवती महिलाओं को चिकित्सा सुविधा और वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी इस योजना के माध्यम से सरकार ने केवल माताओं की मृत्यु दर को कम करेगी बल्कि बच्चों की मृत्यु को भी कम करेगी इससे गरीब महिलाएं भी अस्पताल में सुरक्षित डिलीवरी करा सकेंगे जिससे जच्चा बच्चा आपात स्थितियों से बच सके और सुरक्षित रह सके।

लो परफॉर्मिंग तथा हाई परफार्मिंग स्टेट की सूची

  • उत्तर प्रदेश
  • मध्य प्रदेश
  • उत्तरांचल
  • बिहार
  • राजस्थान
  • छत्तीसगढ़
  • उड़ीसा
  • आसाम
  • झारखंड
  • जम्मू कश्मीर

जननी सुरक्षा योजना के अंतर्गत नकद सहायता

शहरी क्षेत्र
  • लो परफॉर्मिंग स्टेट के लिए सरकार द्वारा महिलाओं को ₹1000 एवं आशा को ₹200 की राशि प्रदान की जाएगी।
  • हाई परफार्मिंग यह महिला को पैसों एवं आशा को ₹200 की राशि प्रदान की जाएगी।
ग्रामीण क्षेत्र
  • लो परफॉर्मिंग स्टेट के लिए महिला को 1400 रुपए एवं आशा को ₹600 की राशि प्रदान की जाएगी
  • हाई परफार्मिंग  ₹700 एवं आशा को ₹200 की राशि प्रदान की जाएगी।
महत्वपूर्ण जानकारी
  • Janani Suraksha Yojana को 12 अप्रैल 2005 को आरंभ किया गया था।
  • केंद्र सरकार द्वारा जननी सुरक्षा योजना का संचालन देश के प्रति 1 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में किया जाता है।
  • इस योजना का संचालन केंद्र सरकार द्वारा किया जाता है।
  • जननी सुरक्षा योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए पंजीकृत लाभार्थी के पास एमसीएच कार्ड के साथ जेएसवाई कार्ड होना अनिवार्य है।
  • लाभार्थियों की सूची वितरण की तिथि पर अनिवार्य रूप से उप केंद्र पीएचसी सीएचसी जिला अस्पताल में डिस्प्ले बोर्ड पर प्रदर्शित की जाएगी।
  • Janani Suraksha Yojana के अंतर्गत विशेष तौर पर उत्तर प्रदेश, उत्तरांचल, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उड़ीसा, राजस्थान एवं जम्मू कश्मीर को टारगेट किया जाएगा।
  • यदि पति या पत्नी बच्चे के जन्म के बाद नसबंदी करवा लेते हैं तो इस स्थिति में उनको मुआवज़ा राशि प्रदान की जाएगी।
  • सिजेरियन सेक्शन के लिए इस योजना के माध्यम से प्रसूति की राशि प्रदान की जाएगी इसके अतिरिक्त ₹1500 की राशि भी प्रदान की जाएगी।
  • गर्भवती महिला के साथ रहने वाली आशा को ₹600 की राशि प्रदान की जाएगी इसके अलावा ₹200 की राशि अधिकतम राशि भी प्रदान की जाएगी सरकार द्वारा आशा को 250 रुपए की ट्रांसपोर्ट राशि प्रदान की जाएगी।
विशेषताएं
  • जननी सुरक्षा योजना की स्वास्थ्य सुविधाएं पूरे भारत में उपलब्ध है राज्यों को दो समूहों अर्थात कम प्रदर्शन करने वाले राज्यों एलपीएस और उच्च प्रदर्शन करने वाले राज्यों एचपीएस में विभाजित किया गया है संस्थागत प्रसव के आधार पर यह वर्गीकरण किया जाता है।
  • जेएसवाई योजना को लागू करते समय स्वास्थ्य क्षेत्र में राज्यों की प्रगति को ध्यान में रखा जाता है उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, उड़ीसा और जम्मू कश्मीर सबसे कम 10 राज्य हैं कुछ प्रदर्शन करने वाले राज्यों में से अन्य राज्य शामिल है।
  • 8 पूर्व राज्य अर्थात उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, झारखंड, उड़ीसा, असम और जम्मू कश्मीर राज्यों को परिणाम स्वरूप निम्न प्रदर्शन करने वाले राज्यों के रूप में वर्गीकृत किया गया।
  • माता की आयु बच्चों की संख्या या सुविधा के प्रकार जैसे सार्वजनिक किया अधिकृत निजी स्वास्थ्य सुविधा के संबंध में कोई प्रतिबंध मौजूद नहीं है।
  • कार्यक्रमों में निजी अस्पतालों नर्सिंग होम और क्लिनिको के साथ भागीदारी है जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि ग्राहकों को आवश्यक बुनियादी ढांचे के बिना भी स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जा सकती है।
  • कार्यक्रम के लाभार्थियों को उप केंद्र आंगनबाड़ी या प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में चिकित्सा कर्मचारियों के साथ पंजीकरण कराना होगा।
पात्रता
  • लो परफॉर्मिंग स्टेट
  • वह सभी महिलाएं जिन का प्रसव सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों या फिर एक ही बीएड प्राइवेट इंस्टीट्यूशन के माध्यम से होता है।
  • योजना के अंतर्गत अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति की महिलाओं को कवर किया जाएगा जिन का प्रस्ताव सरकारी स्वास्थ्य केंद्र या फिर प्राइवेट इडियट इंस्टिट्यूशन के माध्यम से हुआ है।
हाई परफार्मिंग स्टेटस
  • महिला गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रही हो।
  • महिला की आयु 19 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।
  • योजना के अंतर्गत उन सभी अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति की महिलाओं को कवर किया जाएगा जिन का प्रस्ताव सरकारी स्वास्थ्य केंद्र या फिर प्राइवेट एक्रीटेड इंस्टीट्यूशंस के माध्यम से हुआ है।
आवश्यक दस्तावेज
  • आवेदिका का आधार कार्ड
  • बीपीएल राशन कार्ड
  • पते का सबूत
  • निवास प्रमाण पत्र
  • जननी सुरक्षा कार्ड
  • बैंक विवरण
  • मोबाइल नंबर
  • सरकारी अस्पताल द्वारा जारी डिलीवरी सर्टिफिकेट
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
Janani Suraksha Yojana के अंतर्गत आवेदन कैसे करें

देश की जो भी इच्छुक गर्भवती महिलाएं Janani Suraksha Yojana के अंतर्गत सरकार द्वारा वित्तीय सहायता प्राप्त करना चाहती है वह सबसे पहले Ministry of Health and Family Welfare, Government of India की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर जननी सुरक्षा योजना एप्लीकेशन फॉर्म पीडीएफ डाउनलोड करना होगा आवेदन फॉर्म को डाउनलोड करने के बाद आपको फोन में पूछी गई सभी जानकारी जैसे महिला का नाम गांव का नाम पता आदि भरना होगा सभी जानकारी को आवेदन फॉर्म में ध्यान पूर्वक भरने के साथ आपको अपने सभी दस्तावेजों को अटैच करना होगा और फिर इसके बाद आवेदन फॉर्म को आंगनबाड़ी या महिला स्वास्थ्य केंद्र में जाकर जमा करना होगा।

जननी सुरक्षा योजना आवेदन स्थिति देखने की प्रक्रिया
  • सबसे पहले आपको Janani Suraksha Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने एक होमपेज फुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको आवेदन स्थिति देखें के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने एक और नया पेज खुल कर आएगा जिसमें आपको अपना रेफरेंस नंबर दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको सर्च बटन दिखाई देगा उस पर क्लिक करें।
  • आवेदन स्थिति आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखाई देगी।
स्टेटस/यूनियन/टेरिटरीज ऑफिशियल कांटेक्ट नंबर देखने की प्रक्रिया
  • सबसे पहले आपको जननी सुरक्षा योजना की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने होमपेज खुलकर आएगा।
  • होम पेज पर आपको Contact us का लिंक दिखाई देगा उस पर क्लिक करें।
  • आपको स्टेटस/यूटी/ऑफिशियल का लिंक दिखाई देगा उस पर क्लिक करें।
  • अब आपके सामने कांटेक्ट नंबर की सूची दिखाई देगी।

पीएम उदय योजना

Official LinkApply Now
प्रधानमंत्री योजना लिस्टApply Now
ModiScheme HomepageApply Now

 


Discover more from Modi Scheme

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

Leave a Comment

Discover more from Modi Scheme

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading