हरियाणा सुजल योजना क्या है और इसके लिए आवेदन कैसे करे?

हरियाणा सरकार द्वारा शुरू की गई हरियाणा सुजल योजना एक महत्वपूर्ण योजना हैं। राज्य सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत आधुनिक तकनीकों एवं प्रक्रियाओं का प्रयोग करके जल संरक्षण से संबंधित विभिन्न कार्य किये जायेंगे जिससे राज्य में होने वाली पानी की कमी को खत्म किया जाएगा। इसी के साथ इससे काफी पैसो की बचत भी की जाएगी। यदि आप हरियाणा राज्य के निवासी हैं तो हमारा यह आर्टिकल आपके लिए ही हैं, क्योकि आज हम आपको अपने आर्टिकल के माध्यम से इस योजना की सभी जानकारी जैसे योजना का उद्देश्य, लाभ, एवं विशेषताएं, आवेदन प्रक्रिया आदि जानकारी देने जा रहें हैं। हरियाणा सुजल योजना को विस्तार से जानने के लिए आप हमारे इस आर्टिकल को अंत तक अवश्य पढ़ें।

वित्तीय वर्ष हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल जी के द्वारा इस योजना को प्रारम्भ किया गया हैं। पानी को बर्बाद होने से बचाने के लिए इस योजना की शुरूआत की गई हैं। इस योजना के अंतर्गत जल आपूर्ति प्रबंधन के माध्यम से प्रदेश में बर्बाद होने वाले पानी की मात्रा की निगरानी कर इसे कम किया जायेगा। साथ ही प्रदेश के प्रत्येक पेयजल मीटर, ट्यूबवेल एवं कनेक्शन में ऑनलाइन क्लाउड स्टोरेज वाले एक तकनिकी यंत्र को लगाया जायेगा। ताकि राज्य में जल की समस्या  को दूर किया जा सके।

हरियाणा सुजल योजना

Highlights of Haryana Sujal Yojana

योजना का नामहरियाणा सुजल योजना
उद्देश्यपानी बचाना
कब हुई शुरू2022
किसके द्वारा  शुरू हुईहरियाणा सरकार द्वारा
लाभार्थीराज्य के लोग
श्रेणीहरियाणा सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइटजल्द जारी की जाएगी
लाभजल संरक्षण के लिए नयी तकनीक का उपयोग
जूर्माना30 एमएलडी से अधिक पानी का उपयोग करने पर

हरियाणा सुजल योजना का उद्देश्य

हम सभी जानते हैं की पानी हमारे जीवन के लिए कितना अहम हैं, आकड़ों के अनुसार ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि वर्ष 2030 तक देशवासियों को भारी जल संकट का सामना करना पड़ सकता है, इसी समस्या के समाधान के लिए शहरी विकास प्राधिकरण, हरियाणा द्वारा Sujal Yojana को शुरू किया गया हैं। प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गई ये एक अहम योजना हैं। राज्य सरकार द्वारा इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य प्रदेश में होने वाले अपशिष्ट जल प्रवाह को रोक कर अनवीकरणीय जल संसाधन का संरक्षण करना है साथ ही पानी बचाना हैं। क्योकि जल हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्त्वपूर्ण है, इसके बिना जीवन की कल्पना करना असंभव है। अब प्रदेश सरकार द्वारा आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। जिसके लिए जुर्माना भी तय किया गया है। जिसके तहत लाभार्थी केवल एक साल में पार्क और हरित पट्टी से 30 एमएलडी पानी  का उपयोग करेंगे। अगर इससे ज्यादा खर्च किया जाएगा तो उसमें जुर्माना लगेगा। इससे करीबन 4.7 करोड़ श्रम  की बचत की जाएगी।

हरियाणा सुजल योजना के लाभ/ विशेषताएं

  • हरियाणा राज्य सरकार द्वारा इस योजना का प्रारम्भ किया गया हैं।
  • अनवीकरणीय जल का संरक्षण किया जायगा।
  • इस योजना के माध्यम से पानी के उपयोग का ट्रैक और पानी का एकतरफा रिसाव बंद हो जाएगा
  • प्रदेश में होने वाले अपशिष्ट जल प्रवाह की रोकथाम एवं जल संरक्षण से संबंधित कार्य  इस योजना के माध्यम से पूरे  किये जाएंगे।
  • इस योजना की विशेषता ये है कि इसमें जो जुर्माना तय किया गया है। वो सरकार की ओर से कार्रवाई के सामने जरूर वसूला जाएगा।
  • पानी का संरक्षण किया जाता है और जरूरतमंद लोगों को वितरित किया जाता है, खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में।
  • वर्तमान समय में शहरी विकास प्राधिकरण, हरियाणा सरकार द्वारा इस योजना को पायलट कार्यक्रम के तौर पर आरंभ किया गया है, जिसे आगामी समय में पूरे राज्य में लागू किये जाने की संभावना है।
  • साथ ही योजना के अंतर्गत उपयोग में होने वाली तकनीक की मदद से एचएसवीपी के प्रवाह को निर्धारित किया जाएगा।
  • इसके साथ ही, इन उपकरणों के माध्यम से प्रदेश के अवैध पानी कनेक्शनों की पहचान करके, उन्हें निष्क्रिय किया जा सकेगा।
  • इसके आलावा योजना के पूरे प्रक्रिया को एक एकीकृत डिजिटल मंच पर उपलब्ध किया जायेगा, जिसके सहायता से प्राधिकरण अधिकारी न केवल पानी का बचाव कर सकेंगे अपितु राज्य के ऐसे सभी क्षेत्रों की स्थिति पर भी नजर रख सकेंगे जहाँ पानी का अधिक उपयोग होता है।
  • इस योजना में उपयोग किए जाने वाले उपकरणों का उल्लेखनीय प्रभाव पड़ता है, जिससे 70 प्रतिशत श्रम और सालाना 4.7 करोड़ रुपये की बचत होती है।
  • आकड़ों के अनुसार हरियाणा में प्रति दिन लगभग 680 मिलियन गैलन भूजल निकला एवं वितरित किया जाता है,
  • जिसे इस योजना के सुचारु संचालन से 92 प्रतिशत तक कम किये जाने का अनुमान लगाया जा रहा है।
  • अब प्रदेश सरकार द्वारा पानी को बचाने के लिए मीटर लगवाएं जाएगे।
  • जिसमें रिडिंग के हिसाब से बिल दिया जाएगा। इससे भी पानी की काफी बचत होगी।
  • सुजल-पहल द्वारा यह राशि एक वर्ष में 5 एमएलडी तक कम कर दी जाएगी, जिससे लगभग 22.9 करोड़ रुपये की बचत होगी और भूजल के उपयोग में 92 प्रतिशत की कमी आएगी।

Eligibility

  • हरियाणा सरकार द्वारा इस योजना का लाभ राज्य के मूल निवासी को ही दिया जाएगा।
  • इस बात का ध्यान में रखते हुए, आप आगे और योजना का लाभ प्राप्त करें।
Documents
  • आधार कार्ड
  • मूल निवास
  • पहचान प्रमाण पत्र (आधार कार्ड अथवा वोटरआईडी)
  • बैंक पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • ई-मेल आईडी

हरियाणा मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना

हरियाणा सुजल योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया?

इसके लिय आपको हरियाणा सरकार की वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना हैं जो की जल्द ही जारी कर दिया जाएगा। जिसपर आप आसानी से जा सकते हैं।

  • आप जैसे ही वेबसाइट को ओपन करेंगे।
  • आपके सामने कई ऑप्शन दिखाई दे जाएगे।
  • फिर आप इस योजना का लिंक सिलेक्ट करेंगे।
  • अब आपको उसपर विजिट करना है।
  • जिस पर आपको सारी जानकारी प्राप्त हो जाएगी।
  • फिर जैसे ही वो लिंक सिलेक्ट करेंगे आपके सामने योजना का फार्म ओपन हो जाएगा जिसको आपको भरना है।
  • इसके बाद आपसे अगर उसमें कोई गलती हुई तो वो सबमिट नहीं हो पाएगा।
  • सभी जानकारी क के बाद आपके सामने दस्तावेज अटैच करने का ऑप्शन दिखाई देगा जिस पर जाकर आपको क्लिक करना हैं।
  • आप इस प्रकार Haryana Sujal Yojana Registration की प्रक्रिया को पूरा कर सकेंगे।

हरियाणा चारा बिजाई योजना

Official LinkApply Now
प्रधानमंत्री योजना लिस्टApply Now
ModiScheme HomepageApply Now

 


Discover more from Modi Scheme

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

Leave a Comment

Discover more from Modi Scheme

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading